Skip to main content

छोटे से डिब्बे में दो दिल..!!

motherhood twins gender reveal party idea
माँ के लिए उसकी हर प्रेगनेंसी बहुत ही यादगार होती है।

उसी तरह मेरे लिए भी मेरी दोनों प्रेगनेंसी की यादें आज भी ताज़ा है, किस तरह मुझे अपनी पहेली प्रेगनेंसी का इंतज़ार था। 

इतने साल कोशिश के बाद भी मेरी गोद नहीं भरी थी पर कहते है न भगवान के घर में देर है अंधेर नहीं।  

मुझे शादी के ३ साल बाद माँ बनने का सौभाग्य मिला और फिर तो जिंदगी में खुसियो की बहार ही आगयी। 

पर कहानी शरू होती है मेरी दूसरी प्रेगनेंसी की - मैंने शरू से ही सोच रखा था की बच्चे दो ही करूंगी ताकि उनको एक दूसरे का साथ मिले।

 फिर क्या दूसरी बार की खुशी मुझे मेरी पहेली प्रेगनेंसी के ३ साल बाद ही मिल गयी।  हम सब बहुत खुश थे, डॉक्टर का अपॉइंटमेंट लिया चेक करने गए तो पता चला की इस बार मुझे जुड़वाँहोने वाले है , हम हैरान भी हुए कुछ सेकण्ड्स के लिए समझ ही नहीं आया की हम खुश हो या क्या करे ?

आजकल के टाइम पर तीन बच्चे , सोच कर थोड़ा दिल घबरा सा गया। पर जब भगवान ने दिए है तो सोचने में  हमने वक़्त नहीं लगया। घर के सब लोगो को बताया सब हैरान भी थे और खुश भी।  

अभी तक हमने अपने दोस्तों को नहीं बताया था अमेरिका में प्रेगनेंसी के हर मोड़ को बहुत अच्छे से सेलिब्रेट करते है ...जैसे ही आपको पता चलता है आप प्रेग्नेंट है तो आप सरप्राइज  पार्टी रखतेहै जिश्मे आप अपने दोस्तों को सरप्राइज रेवेल करते है की आप के घर में एक नन्ही सी जान आने वाली है। 

उसके बाद आप जेंडर रेवेअल पार्टी करते है यहाँ अमेरिका में आपको जनम से पहलेही बच्चे के जेंडर के बारे में बता दिया जाता है , ताकि लोग थीम के साथ सरप्राइज गेम और पार्टी रख सके फिर एक पार्टी बेबी शावर की बेबी के आने से पहले होती है और फिर बेबी कोवेलकम पार्टी।

 तो हमने भी सोचा क्यों न सबको यह बताया ही न जाये की हमे जुड़वाँ बच्चे है इसको पार्टी तक रहस्य ही रखते है। 

दोस्तों को न बताना वो भी ५ महीने तक यह भी बड़ा मुश्किल काम होता है , ज्यादा हम दोस्त चाय पर मिलते थे किसी दोस्त के एक बच्चा किसी के दो बच्चे।  

एक वाला दूसरा नहीं चाहते और दो वाले की बड़ा मुश्किल है यार आजकल दो बच्चे करना  और मैं उनकी बातेंचुप चाप सुनती  थी ताकि उनको पता न चले , जब भी किसी भी दोस्त से बात होती थी तो ऐसे ही होती थी की दूसरा बच्चा है।  जुड़वाँ तो कोई सोचता भी नहीं था। 

घर आकर मैं सारी बातें सुमित को बताती थी वो बोलते थे जिस दिन इन लोगो को जुड़वाँ का पता चलेगा सब हैरान हो जायेंगे जैसे करते करते हमने भी जेंडर रेवेअल पार्टी रख दी......अपनीपहेली प्रेगनेंसी में भी बहुत धूम से जेंडर रेवेअल पार्टी की थी हमने.....जेंडर रेवेअल के लिए गुब्बारे उड़ाए थे गुलाबी कलर के पहेली हमारी पारी जो हुए थी |

रहस्य खुलने का दिन भी आ गया, सब दोस्तों ने अपनी लड़का या लड़की की टीम बना ली....कुछ देर हमने गेम्स खेले फिर थोड़ा खाना पीना फिर आया टाइम बताने का ही हमे क्या होने वाला है।पर यहाँ तो हमे यह बताना था की हमे जुड़वाँ है तो सुमित ने बोला था की कुछ ऐसा करते है जिससे सब गेस भी करे और जुड़वाँ है यह पता भी चल जाये । 

फिर मैं लग गयी थी काम में , मैंने एक छोटे से डिब्बे में दो दिल रख दिए थे जिसमे लाइट भी ब्लिंक करती है और डिब्बे को किया था बंद। 

सब दोस्तों को आवाज लगायी की आओ रहस्य खोलनेका टाइम आ गया, सब दोस्त एकदम से आगये और टेबल जहा पर वो छोटा सा बॉक्स था वहा खड़े हो गए मैंने अपने एक दोस्त को इशारा किया की लाइट ऑफ कर दे उसने लाइट ऑफ कीमैंने बॉक्स ओपन किया जिश्मे दो दिल चमक रहे थे |

पहले तो लोगो को समझ नहीं आया फिर सब चिल्लाने लगे - अरे क्या ? 

सच में ? 
ट्विन्स है , जुड़वाँ है |

सब के सब हैरान कुछ दोस्त तो मेरे लिए परेशान हो गए की मैं कैसे सम्भालूंगी ३ बच्चे।

 कुछ देर के लिए सब चुप थे।  

जिनके एक बच्चा था वो तो डर गए की उनको दूसरा ट्विन्स न हो जाये...सबके जुबान पर बस यही था।

यार कैसे करेगी पर उन लोगो को खुशी भी थी की इतनी बड़ी बात इतने महीनो से नहीं बताई।

 मैंने बताया की रहस्य रखना बड़ा मुश्किल है पर सबको एक साथ सरप्राइज  देने का अलग ही माजा है। 

वो सरप्राइज ओपन होता हुआ मोमेंट मैंने कैमरे में सेव कर लिया था आज भी कभी वोवीडियो देखते है तो ऐसा लगता है की हमने कितना बड़ा रहस्य छुपाने में कामियाब रहे।

पोस्ट पढ़ने के लिए आपका शुक्रिया , कृपया कमेंट करके बताये कैसी लगी यह कहानी आपको |
आपकी दोस्त 
अंजू खुल्बे सक्सेना   

Comments

  1. Wow loved ur story. I didn't realise I had a broad smile on my face after reading it.
    So beautifully written.
    Thanx for sharing ❤❤

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

दिल से यह दिलवाली दिवाली मनाये #येदिवालीदिलवाली

 जगमगाती रौशनी , वो धूम धराके की आवाज  आया देखो दीपों का  त्यौहार ।  ऐसा  त्यौहार  जिसमे सब एक होकर घर को सजाते है  ऐसा  त्यौहार  जिसमे सब मिल पटाको का धमाल मचाते है  माना यह दिवाली हर साल से थोड़ा अलग है  अपने दूर है, पर साथ है। जो आस पास है उनके साथ खुशियाँ बाँटे  इस बार दिवाली की रौशनी को मुस्कुराहत के साथ जगमगाये।  हमेशा की तरह दिल से यह दिलवाली दिवाली मनाये। 

नववर्ष की हार्दिक बधाई || Happy New Year

 काश यह दिल फिर से बच्चा बन जाये , न किसी से नाराज न किसी की बात दिल से लगाए | बचपन की तरह हर बात पर चुलबुलाये | कुछ बड़ा बनने के सपने सजाये , हर साल की तरह आने वाले साल भी हम सब मुस्कुराये |

Paper Diya ....Easy way to decorate your home walls :)