Skip to main content

ससुराल का वो पहला दिन...!!!


wedding shadi sasuraal marriage
शादी का दिन नजदीक आ रहा था, मन खुश भी था और घबरा भी रहा था | हालांकि मेरा प्रेम विवाह हो रहा था पर ससुराल वालो को अभी जानना बाकि था| वक़्त बीत गया और विदाई का समय आ गया | ससुराल का वो पहला दिन , मेरा वहा पहला कदम | सहमे सहमे मैं अपने सब रिवाज निभा रही थी, कभी अंगूठी रसम कभी खाने की रसम सब करते हुए मुस्कुरा रही थी | माँ ने समझाया था मुझे जैसे तू यहाँ है वैसे ही ससुराल में रहना , खुश रहना और सबको खुश रखना | फिर  भी एक घबराहट सी थी, कुछ गलत न हो बस यह चाहत सी थी |
दिन भर के सारे रिवाज कर के जब हम सब बैठे तो सबने अपने बारे में बताया ,कुछ लोगो ने मुझे छेड़ा कुछ लोगो ने मेरा साथ दिया... तभी मेरी सासु माँ बोली - बेटा, हमारी कोई बेटी नहीं है तो हमे पता ही नहीं की बेटी को रखते कैसे है| अगर तुम्हे कोई भी परेशानी हो तो बेहिचक बताना| 
कुछ हम सीखेंगे कुछ तुम ....इसी को कहते है जिंदगी में साथ निभाना|
आज भी मुझे ससुराल की वो बात याद है सकूं सा मिला था मुझे, इसलिए ससुराल का वो पहला दिन आज भी याद है|

Comments

Popular posts from this blog

दिल से यह दिलवाली दिवाली मनाये #येदिवालीदिलवाली

 जगमगाती रौशनी , वो धूम धराके की आवाज  आया देखो दीपों का  त्यौहार ।  ऐसा  त्यौहार  जिसमे सब एक होकर घर को सजाते है  ऐसा  त्यौहार  जिसमे सब मिल पटाको का धमाल मचाते है  माना यह दिवाली हर साल से थोड़ा अलग है  अपने दूर है, पर साथ है। जो आस पास है उनके साथ खुशियाँ बाँटे  इस बार दिवाली की रौशनी को मुस्कुराहत के साथ जगमगाये।  हमेशा की तरह दिल से यह दिलवाली दिवाली मनाये। 

नववर्ष की हार्दिक बधाई || Happy New Year

 काश यह दिल फिर से बच्चा बन जाये , न किसी से नाराज न किसी की बात दिल से लगाए | बचपन की तरह हर बात पर चुलबुलाये | कुछ बड़ा बनने के सपने सजाये , हर साल की तरह आने वाले साल भी हम सब मुस्कुराये |

Paper Diya ....Easy way to decorate your home walls :)